समकालीन भारतीय रंगकर्म का परिदृश्य

मृत्युंजय प्रभाकर भारतीय रंगमंच जाने किस दौर में है. इसके विकास को किस रूप में देखा जाए. इसे समझना और सूत्र में ढालना अब बहुत मुश्किल हो गया है. एक […]

Read Article →